उसने 
अपने पर्स से 
निकाल दी है,
मेरी तस्वीर
और 
रसोई-घर में 
लगा दिये हैं
ताले!

जिस दिन से,
मैंने उसे कहा है -
"मत किया करो, 
इतना शृंगार,
कि देखकर तुम्हारी
खूबसूरती, 
'किचन' में 
जलने लगें रोटियाँ!"

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
कहानी
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
सांस्कृतिक कथा
विडियो
ऑडियो

A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: