हे प्रियतम

23-05-2017

हे प्रियतम

मानोशी चैटर्जी

हे प्रियतम
अद्‌भुत छवि बन
सुन्दरतम

 

बसे हो तुम
मन मन्दिर में
आराध्य बन

 

भ्रमर जैसे
पागल बन ढूँढू
मैं पुष्पवन

 

तुम झरना
मैं इन्द्रधनुष के
रंगीन कण

 

चंचलता मैं
ज्यों अल्हड़ लहर
सागर तुम

 

तुम विशाल
अनंत युग जैसे
मैं एक क्षण

 

हो तरुवर
अडिग धीर स्थिर
तो मैं पवन

 

जैसे ललाट
और कोरी बिन्दिया
सजे चन्दन

 

हे प्रियतम....

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
लघुकथा
कहानी
कविता
कविता - हाइकु
दोहे
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में