डूबना था हमको देखो, पर किनारा बन गये

03-05-2012

डूबना था हमको देखो, पर किनारा बन गये

मानोशी चैटर्जी

जो अंधेरों से उठे तो फिर उजाला बन गये
क्या हुआ 'गर जुगनु थे कल, अब सितारा बन गये

जब उठा तूफ़ां तो हम सैलाब से बहने लगे
डूबना था हम को देखो पर किनारा बन गये

सोचते थे इस जहां में हम सभी से हैं जुदा
राह चल के दूसरों की हम ज़माना बन गये

इस ज़मीं पर गिर के देखा, स्याह रातें काट ली
उठ गये फिर आस्मां में और हाला बन गये
(हाला- चंद्रमंडल/halo)

'दोस्त' तुम को तो भरोसा था बड़ा तदबीर पर
तुम भी क्या तक़दीर का खु़द ही निशाना बन गये?

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
लघुकथा
कहानी
कविता
कविता - हाइकु
दोहे
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में