दीपक है मेरा प्यार

15-09-2019

दीपक है मेरा प्यार

डॉ. कविता भट्ट

विषाद मन का, डूबते दिन- सा, 
लेखनी असहयोग कर बैठी।
वो मेरी चूनर का सितारा तय था, 
उसकी प्रीत परायों से संयोग कर बैठी।
हाथ में मौली -सा जिसका प्यार बाँधा,
वही समय-गति, मेरा उपयोग कर बैठी। 
चुप है- झिर्री से आता हुआ उजाला,
सूरज है- विमुख, किरण वियोग कर बैठी।
अँधेरे में छोड़ दिया साथ परछाई -सा
उसकी निष्ठा छल का प्रयोग कर बैठी। 
दीपक है मेरा प्यार आँधी से संघर्ष करेगा
समर्पण की चेतना हठयोग कर बैठी।

0 Comments

Leave a Comment