भैंस मिली छिंदवाड़े में

04-02-2019

भैंस मिली छिंदवाड़े में

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

भैंस गुमी, भई भैंस गुमी।
काली वाली भैंस गुमी।

गए ढूँढ़ने कोलकाता,
दिल्ली को भी छाना ख़ूब।
नहीं मिली जब ढूँढ़े से,
सोचा गई नदी में डूब।

कानाफूसी में पाया,
गई है भैंस अखाड़े में।
तुरत ढूँढने निकले तो,
भैंस मिली छिंदवाड़े में।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो