आख़िरी बुज़ुर्ग

01-03-2020

आख़िरी बुज़ुर्ग

डॉ. कविता भट्ट

आज हो रहा गाँव की
नवनिर्मित रोड का उद्घाटन
वहाँ अकेले रह रहा आख़िरी बुज़ुर्ग
गाँव छोड़ रहा है
अनमना होकर
किन्तु समाप्त नहीं होता
हरे- भरे वृक्ष-खेतों का मोह
मटके का पानी,
मिट्टी की सौंधी महक
ठण्डी हवाएँ, फूलों की महक
नहीं है ख़ुश, गहरे दुःख में है
फिर भी जा रहा है दूर शहर
बहू-बेटे के साथ की ख़ातिर।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें