गोबर की छाप

प्रो. ऋषभदेव शर्मा

तुमसे भागकर, राधा,
जिस दिन से शहर आया हूँ,
धो रहा हूँ
मटमैली कमीज़ को
रोज़ -
एलकोहल से, पैट्रोल से।

गाँव की सौंधी गंध तो
कभी की जाती रही
लेकिन
गोबर सनी हथेली की
इस छाप का क्या करूँ
जिसका रंग
पीठ पर
दिन-दिन गहराता जाता है!

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कविता
पुस्तक चर्चा
साहित्यिक
दोहे
विडियो
ऑडियो