बिजली क्यूँ चमके, बादल क्यूँ गरजें?

19-02-2015

बिजली क्यूँ चमके, बादल क्यूँ गरजें?

अशोक परुथी 'मतवाला'

 मेरा एक दोस्त, 
अपनी बीवी को दफ़नाकर, 
घर लौट रहा था, 
कि रास्ते में 
अचानक बिजली चमकने लगी, 
बादल गरजने लगे, 
और 
ज़ोर-शोर से बारिश लगी होने! 

कारण,
जानने की मेरी उत्सुकता, 
मेरे दोस्त ने, 
कुछ इस तरह शांत की - 
“यह पानी क्यूँ बरसे, 
यह बादल क्यूँ गरजें? 
यह तो मालूम नहीं, लेकिन 
लगता है वह ठीक-ठाक पहुँच गयी हैं!”

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कहानी
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
सांस्कृतिक कथा
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में