ज़िक्र (आदित्य तोमर)

01-12-2019

ज़िक्र (आदित्य तोमर)

आदित्य तोमर ’ए डी’

दीप जलते रहें, आस बढ़ती रहे,
साँझ के गीत पर, रात ढलती रहे ।
फिर से सवेरा हो जाएगा, 
ज़िक्र हो तेरा... बात चलती रहे॥

0 Comments

Leave a Comment