न्याय नहीं हो 
सकता वैयक्तिक, 
न्याय होता है
हित,
न्याय को सार्वजनिक
रहने दो,
वैयक्तिक न्याय होता 
है स्वार्थ,
स्वार्थ हितकारी नहीं 
हो सकता।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें