ख़ूबसूरती

01-04-2021

ख़ूबसूरती

वैदेही कुमारी

ज़िंदगी तो बदली हमारी 
पर बदली ना सोच तुम्हारी 
देते जो ताना तुम हरदम 
सोचा तुमने बीती क्या मुझ पर 
सुन्दर काया का जो तुमने स्वप्न सजाया 
मेरा सुन्दर मन नज़र न आया 
दोष नही है तेरा सिर्फ़ 
समाज ने सिखालाया ये फ़र्क़ 
गोरा रंग सबको भाया 
बाह्य ख़ूबसूरती का फैला साया 
मन की सुंदरता का मोल न जाना 
तुमने मुझको न पहचाना 
मुझको है कहना बस इतना 
सबसे अच्छी मन की सुंदरता।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में