किसे 
साथ लेकर चलें,
सब व्यस्त हैं 
मस्त हैं 
एक दूसरे से कटे
अपनी समस्याओं में 
उलझनों में
अपनी लड़खड़ाती ज़िंदगी में
और 
मैं
अपने 
अकेलेपन में

0 Comments

Leave a Comment