उसे ग़ुस्से में क्या कुछ कह दिया था 

01-03-2019

उसे ग़ुस्से में क्या कुछ कह दिया था 

अखिल भंडारी

उसे ग़ुस्से में क्या कुछ कह दिया था
अकेले में वो शायद रो रहा था

वो शायद ख़ुश नहीं था मुझ से मिल कर    
मिला तो था मगर चुप ही रहा था 

था अपने ही नगर में अजनबी वो
सभी जैसा था पर सब से जुदा था 

नहीं था कोई मुझ जैसा वहाँ पर  
मैं उन लोगों में क्यों शामिल हुआ था  

अभी कहने को था बाक़ी बहुत कुछ
मेरी आवाज़ को क्या हो गया था 

मज़े में सो रहे थे लोग घर के 
मगर पीछे का दरवाज़ा खुला था 

मैं ख़ुद को ढूँढ तो लेता यक़ीनन
मैं अपने आप से उकता गया था

2 Comments

  • 9 Mar, 2019 01:57 AM

    बहुत बहुत ख़ूब , गहराई और सच्चाई लिए हुए ये ग़ज़ल सचमुच लाज़वाब है, दिल से दाद कुबूल करें

  • 1 Mar, 2019 06:48 AM

    nice! Ghazal Sahab!!

Leave a Comment