रोज़ पढ़ता हूँ भीड़ का चेहरा

01-03-2019

रोज़ पढ़ता हूँ भीड़ का चेहरा

अखिल भंडारी

रोज़ पढ़ता हूँ भीड़ का चेहरा
सब के चेहरों पे एक सा चेहरा

मुद्दतों बाद उस को देखा था
उस के चेहरे पे था नया चेहरा

आइने में नज़र नहीं आता
गुम कहाँ हो गया मेरा चेहरा

कुछ नए लोग आएँगे मिलने
तुम भी ले जाओ इक नया चेहरा

उस का चेहरा लिबास था उसका
बदला मौसम बदल गया चेहरा

आइना देख कर परेशाँ हूँ
किस का चेहरा है ये मेरा चेहरा

इक खुली सी किताब था पहले
क्यूँ पहेली है अब तेरा चेहरा

साफ़ शफ़्फ़ाफ़ आइना उसका
गर्द आलूद ये मेरा चेहरा

1 Comments

  • 5 Apr, 2019 02:34 PM

    वाह वाह बहुत खूबसूरत ग़ज़ल , जितनी तारीफ़ की जाए कम है बेहद ख़ूबसूरत मतले के साथ ये पेशकश लाज़वाब है ढेरों दाद और मुबारकबाद क़ुबूल करें

Leave a Comment