राजनीति के नमूने

01-04-2021

राजनीति के नमूने

संजीव शुक्ल

ये ट्रम्पवा भी बड़ा बागड़बिल्ला निकला। बताओ तो भला, सत्तारी घूम रहे अपने पिट्ठुओं को इसने अमेरिकी संसद पर चढ़ा दिया। पठ्ठा अपनी हार मानने तक को तैयार नहीं!!! 

तब तो पूरे चार साल नाच-गाना किया और कंधा उचकाते हुए हमारे वाले के साथ तमाम लाइव शो किया; और अब ये सब . . .

अरे इत्ता ही अपनी हार से चिढ़ थी, तो ईवीएम में ही कुछ मेहनत कर लिए होते। हम तो इसके लच्छन तभी से जान गए थे जब यह भारत आया था, खैर हमें तो अमेरिका का आभारी ही होना चाहिए कि उसने जगत को एक ऐसा आइटम दिया है, जिसने पूरे चार साल तक विश्व का मनोरंजन किया और अब भी कर रहा है। 

वैसे ये बग्घा ट्रम्प शुरू से ही लकड़बग्घा था। इसकी चालाकी तो तब समझ में आई जब इसने अपने सारे काम निपटाने के बाद हमको ट्विटर हैंडल पर अनफॉलो कर दिया था। हम हमेशा विश्वास में ही लुटे!! दरअसल इसने अपने बीवी-बच्चों से वायदा किया था कि हम तुम सबको ताजमहल दिखवाएँगे। ख़ूब जी भरके वहाँ फोटू-वोटू खिंचवा लेना। सो उसने इसी बीच भारत-यात्रा का प्रोग्राम सेट कर लिया। हम लोग "अतिथि देवो भव" के झाँसे में आ गये। खूब आवभगत किये। पूरी फैमिली ने ताजमहल की एक-एक दीवार पाँच-पाँच बार देखी। वे सब के सब ताजमहल देखने में बिजी थे और हम 'नमस्ते ट्रम्प' में। हम लोग समझ रहे थे कि बंदा हमको हमारी सफल विदेश नीति का सर्टीफिकेट देकर ही जाएगा, और हो न हो पाकिस्तान को तो जरूर गरियैबे करेगा। 

पर उसने नमस्ते लेने के सिवाय कुछ न किया, न कहा।

उल्टे यहाँ से जाकर बंदे ने कोरोना से निपटने के लिए भारत से कठिन स्पेलिंग वाली दवा भी माँग ली; हमने मानवता दिखाते हुए एक खेप दे भी दी। हम लोग ठहरे निश्छल आदमी! हम तो बेचैन थे अपनी दवाओं का असर जानने के लिए; उधर से जयजयकार की आवाज सुनने के लिए। हम तो मीना कुमारी वाली स्टाइल में गाने भी लगे थे कि:

 "आज हम अपनी दवाओं का असर देखेंगे" . . .

पर अहसान मानना तो दूर पट्ठा उल्टे चिल्लाने लगा कि बेकार ही दवा मँगा ली, यह तो फायदा ही नहीं कर रही। बताइये, यह तो बहुतै बड़ा वाला है . . . खैर कोई बात नहीं, धोखा ही सही, जात तो पहचानी गई। आगे के लिए सीख मिल गयी। जो हुआ सो हुआ, अब आगे से अपने इमोशंस को विदेश नीति पर हावी न होने देंगे। 

और हाँ, एक और सावधानी बरतनी पड़ेगी और पड़ेगी ही, जब ऐसे-ऐसे लोग आएँगे . . . 

तो सावधानी यह है कि जो भी यहाँ आए, चाहे वह जित्ता अपना सगा हो, उससे पहले यह लिखा-पढ़ी करवा लो कि ताजमहल देखने के कम से कम तीन साल तक फेसबुक से अनफ्रेंड और ट्विटर हैंडल से अनफॉलो नहीं करोगे। और अगर आनाकानी करे तो वही दिल्ली में यमुना के दो-तीन चक्कर लगवाकर वापस भिजवा दें।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें