माँ
सुबह बनके
जगाती है
सबको
चिड़िया सी
चहकती
फुलवारी सी
महकती
फिर दोपहर
बन जाती
सबको भोजन
खिलाती
फिर स्वयं खाती
ढलती दोपहरी
की तरह
बिन ज़िरह
बन जाती साँझ
करती स्वागत
अपने काम से
आने वालों का
केवल मुस्कराकर
सबको खिलाकर
फिर कुछ पाकर
बन जाती निशा
बुझ जाती
दिये की भाँति
फिर बनने के लिए
अगली सुबह ...

0 Comments

Leave a Comment