कोशिश (नवल किशोर)

03-05-2012

कोशिश (नवल किशोर)

नवल किशोर कुमार

कोशिश करता हूँ,
हर बार पूरी लगन से,
कुछ नया सोचने की,
कुछ नया करने की,
लेकिन,
मेरे सोचने मात्र से,
क्या हो सकता है,
और क्या हो सकेगा,
जब तक लोग जागेंगे नहीं,
अपने कर्तव्य को नहीं समझेंगे,
और कभी लगता है,
कर्तव्य के पहले तो,
अधिकारों की बातें होंगी,
हक की मारामारी होगी,
जो उन्हें मिल नहीं सकता,
क्योंकि हममें ही,
छिपे हैं जयचंद कई,
हर जयचंद चाहता है,
मात देना,
जागृति रूपी पृथ्वीराज को,
भ्रष्टाचार और बेईमानी के,
अचूक हथियार से,
लेकिन हो सकता है,
सत्य हार जाये,
बेड़ियों में जकड़ लिया जाये,
लेकिन इंसानियत जीवित रहेगा,
कहीं न कहीं,
मेरे या तुम्हारे,
या फिर हम सब में,
ताकि हम बने रहें,
मनुष्य आजीवन,
अपने लिए और
आने वाले असंख्य पलों के लिए।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
ललित निबन्ध
सामाजिक आलेख
विडियो
ऑडियो

  BENCHMARKS  
Loading Time: Base Classes  0.3248
Controller Execution Time ( Entries / View )  0.6321
Total Execution Time  0.9637
  GET DATA  
No GET data exists
  MEMORY USAGE  
65,318,936 bytes
  POST DATA  
No POST data exists
  URI STRING  
entries/view/koshish-nawal-kishore
  CLASS/METHOD  
entries/view
  DATABASE:  v0hwswa7c_skunj (Entries:$db)   QUERIES: 60 (0.5349 seconds)  (Show)
  HTTP HEADERS  (Show)
  SESSION DATA  (Show)
  CONFIG VARIABLES  (Show)