खाट के सेरे पर गौरैया

01-10-2020

खाट के सेरे पर गौरैया

सुनील चौधरी

वे सेरे और पाटी की मज़बूती जानते हैं
वे अतरमायनों1 का प्रयोग भी जानते हैं
वे जानते हैं कैसे खाट को बुना और उधेड़ा जाता है
पायों को समतल करना, वे जानते हैं
वे जानते हैं खाट के सेरे पर बैठी गौरैया का पता
तुम उन्हें कुछ न बताओ
वे खाट को उधेड़ कर 
जेबरा2 बटने के बारे में सोच रहे हैं।

(दोनों ही शब्द ब्रजभाषा के हैं । इन शब्दों का प्रयोग ग्रामीण अंचल में किया जाता है। 

1. अतरमायनों का प्रयोग खाट के बुन लेने के उपरांत खाट को ढीली व टाइट करने के लिए किया जाता है।

2. जेबरा - मोटे रस्से को कहते हैं जिसका प्रयोग पेड़ पर झूला डालने व बोरियों को बाँध कर ले जाने के लिए किया जाता है।)

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें