अच्छे
समय के लिए
सपनों को,
कल पर
टालते रहे,
मन
बहलाने को
रोज,
नये नये
बहाने बनाते रहे,
भाग्य को कोसते रहे।

बिना
पैरों के
लोग,
देखते-देखते 
आसमान में
छा गए।

और
हम
अच्छे कल का
इंतज़ार करते रह गये।
जो
बार-बार
आया,
और 
आया ही नहीं।

0 Comments

Leave a Comment