हौसला   टूटे  न  टूटी  जो  
अगर        पतवार       है, 
कश्तियाँ होतीं  उन्हीं  की 
मौज  के   उस   पार   हैं। 


जो अगर हिम्मत हृदय  में 
रोक    ले    तूफ़ान     को,
लड़खड़ाते     भी     मगर
होती  न  उनकी  हार   है। 


राह   की  गर्मी    न   देती
है       तपन,     बेचैनियाँ, 
मंज़िलों   की   चाह   देती 
थपकियाँ    सौ  - बार   है। 


हो   विकट   चाहे    सफ़र
या  शूल  दे  धरती- गगन, 
हौसला   ही   ज़िन्दगी   में 
जीत    का    आधार    है। 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें