गरीबों का नया साल

03-05-2012

गरीबों का नया साल

नवल किशोर कुमार

बीत गया जो अब तक,
वह कोई बुरा सपना था,
हर दिन इस झाँसे में बीता,
जो भी था वह अपना था।

फिर वहीं दिन आयेंगे,
जेठ अपना लहू जलायेगा,
भूख से त्रस्त लोगों को,
पूस में पसीना आयेगा।

गरजेंगी फिर से गोलियाँ,
बेचारे फिर से मारे जायेंगे,
वही बेरहम सरकारी कुत्ते,
गरीबों की बोटिंयाँ खायेंगें।

चलो गरीबों फिर एक बार,
पुनः मिट जायें गरीबी में,
खाकर नेताओं के जूते,
खत्म हो जायें राजनीति में।

हम तो जियेंगे अपने दिन,
चाहे आत्मा करे लाख इन्कार,
मुबारक हो उनको नया साल,
जिनकी जेब में है सरकार।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
ललित निबन्ध
सामाजिक आलेख
विडियो
ऑडियो

  BENCHMARKS  
Loading Time: Base Classes  0.2333
Controller Execution Time ( Entries / View )  0.4889
Total Execution Time  0.7256
  GET DATA  
No GET data exists
  MEMORY USAGE  
65,317,104 bytes
  POST DATA  
No POST data exists
  URI STRING  
entries/view/gareebon-ka-nayaa-saal
  CLASS/METHOD  
entries/view
  DATABASE:  v0hwswa7c_skunj (Entries:$db)   QUERIES: 60 (0.3967 seconds)  (Show)
  HTTP HEADERS  (Show)
  SESSION DATA  (Show)
  CONFIG VARIABLES  (Show)