गली कूचों में सन्नाटा बिछा है

15-04-2020

गली कूचों में सन्नाटा बिछा है

अखिल भंडारी

गली कूचों में सन्नाटा बिछा है
हमारे शहर में क्या हो रहा है

 

ये किस ने ज़हर घोला है फ़ज़ा में
ये कैसा ख़ौफ़ तारी हो गया है

 

गले मिलना यहाँ की रीत कब थी
मिलाना हाथ भी दूभर हुआ है

 

सभी चेहरे नक़ाबों में छुपे हैं
सभी के दरमियाँ इक फ़ासला है

 

दुकानें बंद हैं अब शहर भर में
निज़ाम-ए-ज़िंदगी बदला हुआ है

 

हुए हैं क़ैद अपने ही घरों में
कि दुश्मन का अजब ये पैंतरा है

 

अजब ये जंग-ए-पोशीदा है इस को
घरों में बंद हो कर जीतना है

 

किरण उम्मीद की अब दिख रही है
उफ़ुक़ के पार कोई नूर सा है


पोशीदा = अदृश्य
उफ़ुक़ = क्षितिज

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें