चिंतन ऐसा

15-05-2019

जब मैं आस्तिक 
बन ईश्वर को 
नास्तिक की दृष्टि से देखना चाहता हूँ
तो अज्ञात चिंतन में
खो जाता हूँ

जब मैं नास्तिक 
हो दुनियां से 
एक नाता बनाने की कोशिश
करता हूँ 
और आस्तिकता का ढोंग 
करता हूँ
तो एक अज्ञात चिंतन में
खो जाता हूँ

जब अस्तित्व 
का चिंतन करता हूँ
तो पता नहीं 
एक अज्ञात चिंतन
मन को घेरे रहता है
और चुंबक की भाँति खींचता है
कि तुम्हारा ईश्वर से 
रिश्ता नहीं है
मैं बस चिंतन ही करता हूँ
शोचनीय बात है!
अलौकिकता तक 
सीमित नहीं?
तो अद्वैत से शंकर का चिंतन करूँ
विशिष्ट से रामानुज का 
या शुद्ध से वल्लभ का 
बस 
सब प्रश्न है?
चिंतन विलक्षण है 
आज भी????
अलौकिकता अज्ञात चिंतन है।

0 Comments

Leave a Comment