बेरोज़गार

15-02-2020

अश्रु   भरे   वह   नैन    लिए   रह   जाता। 
बिखरे  बाल, घिसी   दो  चप्पल 
तपती  राहों  पर  अविरत   चल, 
जग  के   पहले   ही   वह   जागे
दौड़  - धूप   दफ़्तर    के    आगे। 
बेकारी   का    तीव्र   दशन  सह    जाता। 
अश्रु   भरे    वह   नैन   लिए   रह  जाता। 


बोझ   बनी   अब   सारी  शिक्षा 
काम    माँगता   है    न   भिक्षा, 
फुटपाथों    पर    रात     गुज़ारा
दर -  दर   भटका   बन   बंजारा । 
अरमानों   का   सागर    यूँ     बह    जाता 
अश्रु   भरे    वह   नैन   लिए   रह   जाता। 


ढूँढ -   ढूँढकर    नौकरी      हारा
बेकारी    ने    तिल-तिल    मारा, 
वस्त्र   घिसे   अब    हुए    पुराने 
दुनिया    रह- रह     मारे     ताने। 
उसका   कृष -तन  दर्द    कई   कह   जाता 
अश्रु    भरे   वह   नैन    लिए   रह    जाता। 

0 Comments

Leave a Comment