छोटे छोटे तिनकों से 
आशियाना बनाना नामुमकिन है
पर जब देखता हूँ उड़ते हुए पंछी को 
मुझमें भी एक आस है 


घबरा जाता हूँ -
जीवन की हर मुश्किल को देखकर 
पर जब देखता हूँ, 
उस फैले हुए रेगिस्तान को 
मुझमें भी एक आस है


दुःख होता है, 
जब ढलते हुए तुझे देखता हूँ 
पर कल तू फिर आयेगा 
नई उमंग लेकर. . .
ये आस है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें