जल जल दीप जलाए सारी रात

14-10-2014

जल जल दीप जलाए सारी रात

गोवर्धन यादव

जल जल दीप जलाये सारी रात
हर गलियाँ सूनी सूनी
हर छोर घटाटोप अँधेरा
भटक न जाये पथ में
आने वाला हमराही मेरा

झुलस- झुलस दीप जलाये सारी रात


घटायें जब घिर-घिर आतीं
मेरा मन है घबराता
हा-दिखता नहीं कोई सहारा
क्षित्तिज मे आँख लगाये
हर क्षण तेरी इन्तज़ारी में

सिसक-सिसक दीप जलाये सारी रात

आशाओं की पी पीकर खाली प्याली
ये जग जीवन रीता है
ये जीवन बोझ कटीला है
राहों के शूल कटीले हैं
तिस पर यह चलता दम भरता है

तडफ़ तड़फ़ दीप जलाये सारी रात

लौ ही दीपक का जीवन
स्नेह में ही स्थिर जीवन
बुझने को होती है रह रह
तिस पर आँधी शोर मचाती
एक दरस को अखियाँ अकुलातीं

जल जल दीप जलाये सारी रात

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
कविता
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
सांस्कृतिक कथा
ऐतिहासिक
पुस्तक समीक्षा
कहानी
स्मृति लेख
लघुकथा
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में