तुम याद आते हो 

01-01-2021

तुम याद आते हो 

चंद्र मोहन किस्कू 

बहुत याद आते हो 
जब
सूर्यकिरण
घर की छत से 
उतर कर 
खिड़की तक आती है 
और समतल धरती पर 
बहुत सारे चित्र बनाते हुए 
अनेक बहाने से 
तुम्हारा ही नाम लिख जाती है
एक दर्द 
छाती में उठता है 
तुम्हारी याद 
मुझे सताती है . . .
 
गोधूलि बेला में
जब गायों की पैरों से 
धूल उड़ती है 
आसमान में काले बादल
मँडराने लगते हैं 
पक्षी
घोंसले में लौटते हैं 
तब मेरी याद में 
तुम आती हो 
और छाती के 
एक कोने में 
मीठा दर्द होता है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें