तब की बात

30-04-2012

तब की बात

संजीव बख्शी

तब की बात
कुछ और थी
          एक कंकर को
            हथेली पर
                रख
                   उसने जब
                      खाई
                          पृथ्वी की कसम
     सबने
        उसकी हथेली पर
            पृथ्वी को
                रखी देखा था।

0 Comments

Leave a Comment