प्रवासी पसीना

15-06-2020

प्रवासी पसीना

सुमित दहिया

तुम्हारे गुथे गए पसीने से जुड़ी हैं 
इमारतों की ईंटे
जीडीपी के आँकड़े
और पासबुक की संख्या
तुम्हारी पलकों के झपकने से सरकता है
सेंसेक्स औऱ निफ़्टी
तुम्हारी देह की परछाई ने सबसे पहले किया था
सेठ जी के मधुर सपनों पर पलस्तर


लेकिन अब यह पसीना सड़कों पर बह रहा है 
कम हवा वाले टायरों पर उदास गृहस्थी ढोता हुआ
धीमी आवाज़ की घंटी पर गिर रहा है


मुझे डर है कहीं इतने लंबे सफर में
यह भूखा, प्यासा प्रवासी पसीना
सरकारी सड़कों में दरार न डाल दे।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें