पिता हो तुम

01-01-2021

गर्मी की दोपहर में
जल कर जो साया दे
वो दरख़्त हो
 
बच्चों की किताबों में
जो अपना बचपन ढूँढ़े
वो “उस्ताद” हो तुम
पिता हो तुम . . . पिता हो . . .
  
दुनिया से लड़ने का . . .
रगों में ख़ून बन कर बहने का
“जज़्बा” तुम हो . . .
अपने खिलौनों को
हर वक़्त तराशने के लिए . . .
हाथों में गीली मिट्टी लिए रहता है
वो “कुम्हार” हो तुम
पिता हो तुम . . . पिता हो . . .
 
अपने अधूरे ख़्वाबों को पूरा जीने के लिए . . .
ख़ुद की नींद को . . .बाँध कर जो फेंक दे
वो “हौसला” . . . तुम हो
पिता हो तुम . . . पिता हो . . .
 
ख़ुद से भी ज़्यादा ऊँचाई से देख पायें . . .
इस दुनिया को . . .
इसलिए बच्चो को कांधों पर लिए फिरते हो
आने वाले कल की नींव रखने वाले
“कारिंदे” हो तुम . . .
पिता हो तुम . . .पिता हो . . .
 
गर . . .घर जन्नत है
तो उसका आस्मां तुम हो
पिता हो तुम . . .पिता हो . . .
किसी भी ख़ानदान की बुनियाद
सिर्फ़ तुम हो
 . . .सिर्फ तुम!
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें