नव आशा की धरती 

15-01-2020

नव आशा की धरती 

चंद्र मोहन किस्कू 

निराशा के आसमान में 
एक दिन उदय होगा ही सूर्य 
फूटे छज्जे वाले घर से ही 
दिखता है चन्द्रमा
परती और पथरीली ज़मीन भी 
सदा एक सा  हीं रहेगी 
शांति की खेती होगी ही 
एक न एक दिन 
आनंद के फूल खिलेंगे 
एक दिन अति सुन्दर।


सहारा की कोख भी 
सदा खाली नहीं रहेगी 
वहाँ हरी घास उगेगी 
ठण्डे झरने फूटेंगे  
धान के पौधे के जैसी संतानें
सर हिलाकर नाचेंगी एक दिन।


पुरखों की बातें 
झूठ नहीं होतीं कभी 
निराशा की घने से 
उगेंगे ही 
नव किरण के साथ 
नव आशा के सूर्यदेव।
नव आशा की धरती 
हरी होगी, एक न एक दिन।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें