क्या तुम ही हो 

01-12-2019

क्या तुम ही हो 

बृजमोहन गौड़

सूरज से बिखरा जैसे सोना 
वो नदियों का कल कल बहना
कूलों के फूलों पर तितली
या मीन पियासी हो जल में। क्या...

 

नीरव पेड़ों से लिपटी लता
कोयल की कूक छिपा पता
धानी चूनर, लहराती सी 
स्वच्छंद उड़ान विहंगों सी। क्या...

 

वीणा की जैसे नाद सजी
सतरंगी कोई फाग मची
छन छन अमराई धूप पगी
या पा यौवन सजी रूपसी। क्या...

 

एक नीड़ सजाती बुलबुल सी
सपनों के जुगनू लगाती सी
बुनती ले आस  ताना बाना
ये आस लगा कि चले आना। क्या...

 

मन धीर धरे उस देहरी पर
तन धारी नाम चुनरिया को
तकती विकल डगरिया को
वो जोहती बाट सँवरिया की। क्या...

 

हाँ वो तुम ही हो।  

0 Comments

Leave a Comment