शिखर से तलहटी तक

01-01-2020

शिखर से तलहटी तक

भावना भट्ट

जब ऊब जाओ
तुम शिखर की शून्यता से 
तब लौट आना तलहटी तक..

 

तुम्हारी क़ामयाबी की प्रार्थनाओं के साथ
मैं मिलूँगी तुम्हें ठीक उसी जगह पर
जहाँ से तुम चल दिए थे कभी..!

 

मेरे पास पंख ना सही
मन तो था
काश..! एक बार भी कह देते
कि "साथ चलो तुम..!"

 

तो शायद 
लौटना न पड़ता तुम्हें भी
शिखर से तलहटी तक..!

0 Comments

Leave a Comment