संस्कार

01-01-1970

पहली बार घर से बाहर जा रही थी, दो–तीन दिनों के लिए नहीं पूरे तीन साल के लिये। परदेस में पढ़ने की बात घर में किसी को रास नहीं आ रही थी। कभी घर से स्कूल तक तो अकेले नहीं गई थी। कैसे रहेगी? अनजान शहर, अनजान लोग, इतनी सारी चुनौतियाँ . . .। हालात भी इजाज़त नहीं देते थे। लेकिन बेटी की इच्छा के आगे पिता ने बैंक से कर्ज़ ले लिया। उसकी इच्छाएँ कर्तव्यों और दायित्व-निर्वाह में स्वाहा हो गईं, लेकिन बेटी को अवश्य ही लंदन भेजूँगा। वह वही कोर्स करेगी जो वह करना चाहती है। हाँ–ना करते करते सैकड़ों हिदायतों के साथ उसे माँ-बाप छोड़ आये मुंबई एयरपोर्ट। माँ नौकरी छोड़कर उसके साथ जाना चाहती थी पर फिर फ़ीस कैसे भरी जाती? अकेला पिता कैसे ढोता ख़र्चों का बोझ? माँ ने भी दिल कड़ा कर लिया, रह लूँगी अकेली, लेकिन बेटी के सपनों की दुश्मन नहीं बनूँगी। बरसों से पहना हनुमानजी का तावीज़ बेटी के गले में लटका दिया। नया मोबाइल फोन, घर-गृहस्थी का छोटा-मोटा सामान। सारी व्यवस्थाएँ कर दी गईं। हिदायतों की लंबी सूची, अनजान लोगों से दूर रहना, सुबह-शाम फोन करना, रात देर तक न जागना . . .।

अचानक मिली छूट से वह बौखला गई। जल्द ही नये-पुराने, अच्छे-बुरे लड़के-लड़कियों के साथ दोस्ती हो गई, बाहर आना-जाना होने लगा। वह एक आज़ाद पंछी थी, जहाँ कोई रोकने वाला न था। होस्टल के कमरे में टेबल पर रखे हनुमान जी की एक मूर्ति जो इस हिदायत के साथ रखी थी कि रोज़ दिया लगाना। लेकिन फ़ायर अलार्म के डर से उसने सिर्फ़ प्रणाम से काम चला लेना सीख लिया। 

और फिर ऑरेंज जूस पीते-पीते न जाने कब वह बीयर और वाइन पीने लगी। सिगरेट के छल्ले बनाने का भी तो एक अपना मज़ा था। मेहनत की थी छल्ले बनाना सीखने में। ‘शीशा बार’ में नहीं जाती तो सबके साथ कैसे रह पाती? वह भूलती गई . . . बहुत कुछ। . . . उन हिदायतों को . . . भी . . . धीरे. . . धीरे , जो माँ-बाप ने दी थीं। घर रोज़ बात न कर पाना, व्यस्तता और समय का अंतर बता कर यक़ीन दिलाना मुश्किल नहीं था। सिर्फ़ शनिवार-रविवार ही बात होने लगी। पढ़ाई बहाना बन गई फोन न कर पाने का। 

इधर कई बार से ’शीशा बार’ के उस अधेड़ उम्र के वेटर को देख कर उसे कुछ होने लगता था। साथियों के बग़ैर भी वह जब-तब वहाँ जाने लगी। वह अक़्सर एकाध ड्रिंक बड़ी अदा के साथ उसे मुफ़्त ही दे देता था। उसके कसरती शरीर और बलिष्ठ बाहों की बल्लियों से वह नज़रें न हटा पाती। यों उस वेटर से बातें तो रोज़ ही होती थीं, आख़िर एक दिन उसने उसे घर पर बुलाने का प्रस्ताव रख ही दिया। कह सकते हैं कि दोनों का परिचय काफ़ी बढ़ गया था। युवा मन कल्पानाकाश में विचरने लगा। लड़की ने उस शाम दोस्तों के साथ जाने से मना कर दिया। 

रात आठ बजे मुलाक़ात तय हुई थी, इस मुलाक़ात का मतलब वह ख़ूब समझ रही थी। उसने तैयार होते हुए अपनी आँख का काजल कुछ क़ातिलाना अंदाज़ में गहरा किया। टेबल पर रखे वेनिटी केस में से अभी लिप्स्टिक तक हाथ पँहुचे ही थे कि हनुमान जी की वह छोटी सी मूर्ति गिर पड़ी। उसने वापस जगह पर रखने से पहले आदतन माथे पर लगाई कि स्वतः ही उसका हाथ गले के लॉकेट पर चला गया। वह, मानो, यकायक होश में आ गई। हे भगवान! यह क्या करने जा रही थी मैं? उसका बदन थरथर काँप रहा था। छाती और गला अवरुद्ध। उसने उसे एक संदेश भेजा– ‘मैं नहीं आ सकती आज भी और कभी भी।‘ उसका एक हाथ लॉकेट पर और नज़र टेबल पर रखे हनुमान जी पर थी। उस शाम वह घंटों फूट-फूट कर रोई और फिर उसे सब कुछ एकदम साफ़-साफ़ नज़र आने लगा। 
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें