पैसों के लिए

01-09-2019

पैसों के लिए

वैद्यनाथ उपाध्याय

कई टुकड़ों में बँटकर
जीने के आदी हो गए
हम
काँच की तरह
टूट जाते हैं
हमारे संकल्प
हमारी आशाएँ
जीते हैं
लक्ष्यहीन, उद्देश्यहीन
बेसुरा होकर
ईमान को दबाकर
झूठ की बैसाखी पर खड़े होकर
अपने को ऊँचा दिखाने के
ढोंग सीख लिए हैं
हमने
जीवन को ढाल लिया
एक मशीन की तर्ज़ पर
इस दौर में
हम जीना भूल गए
बस मर रहे हैं
पैसों के लिए।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो