मेरा वजूद 

15-10-2020

तुम इस्तेमाल करते हो मैं इस्तेमाल होती हूँ
बिना कुछ सोचे बिना बोले
हर दिन हर पल 
घर मे पड़े किसी फ़र्नीचर की तरह 
रहती तो घर में हूँ पर क़दर ज़रूरत भर
 
जब मन हुआ आ गए, मन की बात की 
फिर अपने रस्ते, 
कोई ताल्लुक़ ना रहा हो जैसे कभी 
हम दोनों का 
तुम्हारे लिए मेरा वजूद सिर्फ़ इतना सा ही है। 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें