मैं पर्दा था

01-03-2020

मैं पर्दा था

राजू पाण्डेय

 मैं पर्दा था  
जब तक नज़रों का
हुआ जब से कपड़े का
ख़ुद बेपर्दा हो गया।


आँखें मूद लेता हूँ
देख सलवटें चादर की
फिर किसी  यक़ीन का
पल में क़त्ल हो गया।


स्तब्ध हूँ देखकर
लगती बोली ईमान की
फिर किसी अरमान का
सपना चूर हो गया।


विचलित हूँ देख
जिसे ज़िम्मा बचाने का
कफ़न का भी, आड़ में मेरी
सौदा बिन मरे हो गया।


हैरां हूँ देख
बदलते रूप इंसान  के
लूटता रहा जो महलों को  
वो चौकीदार हो गया।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें