वही वही मकड़ जाल
बुनते हैं सुबह शाम
हम आदमी है आम

उठने से सोने तक
कहता हूँ मरा मरा
जानूँ न समझूँ राम।

अन्यों को देख देख
मुँह में न थमे लार
तृषा को नहीं लगाम।

मानव है बगुले सा
रूप धर योगी का
जोड़ता है धन-धाम।

दोष क्यों देते हमें
कुसंस्कारित कर रहे
कलियुग के तामझाम।

रूप आम के तमाम
दशहरी, तोतापरी
चौसा, नीलम, बदाम।

खास लोगों के लिये
कटते पिटते है हम
बने रहते गुमनाम।

0 Comments

Leave a Comment