एक ठहरी हुई उम्र

02-06-2016

एक ठहरी हुई उम्र

सुशांत सुप्रिय

मैं था तब इक्कीस का
और वह थी अठारह की

हाथी-दाँत-सा उजला था उसका मन
और मैं चाहता था
बाँध लेना उसकी छाया को भी

लपट भरा एक फूल थी वह
और मैं चाहता था
उस की ख़ुशबू की आँच में जल जाना

मैं था तब इक्कीस का
और वह थी अठारह की
जब एक दिन असमय ही
सड़क-दुर्घटना में चल बसी वह
रह गई वह अठारह की ही
सदा के लिए

आज हूँ मैं छियालीस का
पर वह अब भी है अठारह की ही

मेरी आँखों में अटका
एक अनमोल आँसू है वह
मेरी वाणी में बंद
एक सुरीला गीत है वह
मेरी मिट्टी में बची रह गई
एक हरी जड़ है वह
मेरी स्मृति के मंदिर में मौजूद
एक देवी-प्रतिमा है वह

आज हूँ मैं छियालीस का
पर वह अब भी है अठारह की ही

उसकी ठहरी हुई उम्र की स्मृति को
हर पल जी रहा हूँ मैं

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
अनूदित कहानी
कहानी
कविता-मुक्तक
विडियो
ऑडियो