धूप-ताप

08-03-2009

धूप
निचोड़ लेती है
देह के रक्त से पसीना

 

माटी से बीज
बीज से पत्ते
पत्ते से वृक्ष
और वृक्ष से
निकलवा लेती है - धूप
सबकुछ

 

धूप
सबकुछ सहेज लेती है
धरती से
उसका सर्वस्व
और सौंप देती है - प्रतिदान में
अपना अविरल स्वर्णताप
कि जैसे -
प्रणय का हो यह अपना
विलक्षण अपनापन

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें


  BENCHMARKS  
Loading Time: Base Classes  0.2233
Controller Execution Time ( Entries / View )  0.6169
Total Execution Time  0.8440
  GET DATA  
No GET data exists
  MEMORY USAGE  
65,312,936 bytes
  POST DATA  
No POST data exists
  URI STRING  
entries/view/dhoop-taap
  CLASS/METHOD  
entries/view
  DATABASE:  v0hwswa7c_skunj (Entries:$db)   QUERIES: 58 (0.4968 seconds)  (Show)
  HTTP HEADERS  (Show)
  SESSION DATA  (Show)
  CONFIG VARIABLES  (Show)