धूप
निचोड़ लेती है
देह के रक्त से पसीना

 

माटी से बीज
बीज से पत्ते
पत्ते से वृक्ष
और वृक्ष से
निकलवा लेती है - धूप
सबकुछ

 

धूप
सबकुछ सहेज लेती है
धरती से
उसका सर्वस्व
और सौंप देती है - प्रतिदान में
अपना अविरल स्वर्णताप
कि जैसे -
प्रणय का हो यह अपना
विलक्षण अपनापन

0 Comments

Leave a Comment


A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: