चक्रव्यूह

01-11-2020

काल की निगाह को
छलकर
सपनों के अंगुली थामे
भागा भागा सा
निकला था
मैं घर से . . .
बीच राह में आकर
फँसा हुआ हूँ
इच्छाओं का जाम
लगा है आगे
बेक़ाबू होकर निकल पड़ी
इच्छाएँ
भिड़ गई हैं
एक दूसरे से।
 
सूरज ठठाकर
हँसा है मुझ पर
मैं निरीह, असहाय सा
खड़ा हूँ
बीच राह में
क्या करूँ
कुछ सूझता नहीं
फिर भी
मैं पराजित नहीं हूँ
चक्रव्यूह में फँसा
अभिमन्यु की तरह!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें