भिखारिन 

15-03-2021

भिखारिन 

अवनीश कुमार

एक बूढ़ी लाचार औरत
ललचायी नज़रों से
हाथ फैलाती है,
भर्रायी आवाज़ में माँगती 
चंद सिक्के,
एक हाथ में लाठी लिए 
अपने कंकाल हो चुके शरीर का
बोझ सँभालती है,
कुछ देने से पहले ही 
वो दुआ देती,
पर लोग उसे नज़रअंदाज़ कर देते
न जाने क्यों?
शायद अब उन्होंने
'असहाय की सहायता ज़रूरी है',
इस बहस से बचने का
कोई उपाय ढूँढ लिया है,
अब वो कहने लगे हैं 
'भीख देना अच्छा नहीं है'
लेकिन वो अपने इस तर्क में 
भूल जाते हैं ज़िक्र करना
उस भिखारिन की लाचारी, भूख, दर्द
और कूड़े से टुकड़ा न उठाने की 
निरर्थक आकांक्षा का।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में