यही तो दुनिया है साहब

01-12-2019

यही तो दुनिया है साहब

नासिर अख़्तर इंदौरी 

यही तो दुनिया है साहब,
हर कोई पैसों का मारा,
हर एक ख़ुद से ही हारा,
यही तो दुनिया है साहब!


ये न सतयुग है, न द्वापर है,
ये कलयुग है, ये कल. . .युग है. . .

 

यहाँ प्यार नहीं, कोई यार नहीं,
रिश्ते, नाते, व्यवहार नहीं,

 

सब अपनी अपनी कहते हैं,
सब अपनी अपनी करते हैं,

 

इंसान नहीं,
हैवान हैं सब,
सब तन्हा हैं. . .सब तन्हा हैं. . .

 

बेकार का रोना रोते हैं,
बेकाम की बातें करते हैं,
ज़िंदा हैं, पर मुर्दा हैं,
मरने के लिए ही जीते हैं,
और जीते जीते मरते हैं. . .

 

यही तो दुनिया है साहब. . .!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें