दूर पलाश के फूलों के बीच 
सूरज की एक किरण फूटी,
लगा-
                   अलसाई हुई सी तुम जागीं।
झरनों की कल-कल और 
चिड़ियों की ‘चिक -चिक सुन 
लगा-
                   तुमने कोई मधुर गीत गाया।
धीरे-धीरे जो चली पुरवाई
पेड़ों के पत्ते यूँ सरसराए
लगा-
                   तुमने शरमा के मुखड़ा छिपाया।

0 Comments

Leave a Comment