सुनील ’शाश्वत’ मुक्तक - 1

15-01-2020

सुनील ’शाश्वत’ मुक्तक - 1

सुनील 'शाश्वत’

1.
"मैं कवि नया नहीं हूँ,
नभ का रवि भी बहुत पुराना है,
बस यूँ ही ख़ामोश हूँ,
सत्ताधीशों के पास माना-जाना थाना है।"

2
"ये वो जयचंद विनाशक हैं,
इन सा कोई मासूम कहीं?
जिन्हें तराइन का ही याद रहा,
चंद्रावर की परवाह नहीं।"

3.
वो विद्वान थे सो फरमाया,
'देशभक्तों का सैनिक होना जरूरी है!’
मैं इक नादान, प्रतिकार किया,
'बेरोज़गारों का देशभक्त होना अधिक ज़रूरी है!'

4.
मधु में भीगी सुरमयी तान पर,
इठला कर मत बैठ बबूल की डाल पर,
पग तेरी तरह औरों के भी कोमल हैं,
मत बन कंटक किसी की राह पर।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें