पारिजात

01-09-2020

पारिजात

रंजना जैन

गिरे धरा पर पुष्प देखकर
मन आया पूछूँ फूलों से
बंद कली से तुम खिलने में
रूप रंग से सजने में
फिर सुगंध  रस भरने में 
जितना समय लगाते हो
उतना हक़ नहीं जीने का
अल्प अवधि रह पाते हो! 
 
फूलों ने की अलग कहानी 
अर्थ नहीं जीवन मनमानी
लाना यदि परिणाम निराला
बनना पड़ता है मतवाला
पीकर सोम मधुर रस अंतर
बन आकार पूर्ण अति सुंदर
सुखानंद की मंशा लेकर
गिर पड़ते झट डाली से
नये पुष्प भर जाने को! 
  
सार यही मानव जीवन का
मोल नहीं लम्बे छोटे का
तत्व यही ज़िंदा होने का
फैला दे जो लघु जीवन में
शिव सुन्दर का शुभ संदेश
महका दे सारे उपवन को
पथ में बिखरें फूल अनेक॥ 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो