मेरी भूमिका

01-04-2021

मेरी भूमिका

प्रवीण शर्मा

पूर्व निर्धारित है मेरी भूमिका
लिख कर रखे हुए हैं 
मेरे संवाद 
मुझे केवल इन्हें याद रखना है
और इस तरह अदा करना है 
कि सुनने या देखने वालों को लगे 
कि – नदी अपनी स्वाभाविक गति से 
बह रही है 
आसमान पूरी तरह साफ़ है 
एक-एक करके —
छिटके हुए सारे तारे
गिने जा सकते हैं 
उस छोर से इस छोर तक
हवाओं में एक सौंधी गन्ध है 
जिसके झोंके 
उन तक पहुँच रहे हैं 
जो चाहते हैं कि सब कुछ इसी तरह चले 
एक जादू की पिटारी खुले
जिसमें उन्हें तरह-तरह के रंग दिखें
मैं चाहता हूँ
कि अपने संवादों को
थोड़ा सा बदलूँ 
अपने चेहरे की भंगिमा में वह 
सब कुछ आने दूँ 
जो मेरे भीतर खौल रहा है 
उस लावे को बाहर आने दूँ 
मैंने यह संवाद माँगे तो नहीं थे?
मैंने यह नाटक चुना तो नहीं था?
अभिनय मेरे जीवन का लक्ष्य तो नहीं था?
पूर्व निर्धारित है मेरी भूमिका
लिखकर रखे हुए हैं मेरे संवाद 
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें