कोलाहल (वैद्यनाथ उपाध्याय)

01-10-2020

कोलाहल (वैद्यनाथ उपाध्याय)

वैद्यनाथ उपाध्याय

रहस्य के किसी महाद्वीप पर
मैंने शब्दों का नीड़ बनाया है
वहाँ सपनों के
पहाड़ हैं
नदियाँ हैं
चिड़ियों का एक संसार है।
वहाँ सबकुछ है
प्रकृति खुले में निर्वस्त्र होकर
नाचती है।
मैं वहाँ
सदियाँ गुज़ारना चाहता हूँ।
 
पर
यह हरामी मन है
मेरे पास
जो गन्दी मैली बातों से
मैला कुचैला कर
बरामदे को
बेचैन किए रहता है।
 
मैं बहुत दुखी हूँ
इस मन से
कभी अकेला
नहीं रह पाता हूँ
इस के कोलाहल से!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें