कल अपना भी दौर आयेगा

01-12-2020

कल अपना भी दौर आयेगा

नीलेश मालवीय ’नीलकंठ’

मेरे हालात फटेहाल हैं तो क्या
ख़ाली जेब में बस रुमाल है तो क्या,
आज मेहनत की ख़ामोशी है
कल कामयाबी का शोर आएगा
कल अपना भी दौर आयेगा।
 
तुमने छोड़ दिया तो क्या
दिल मेरा तोड़ दिया तो क्या,
आज तुम मुझसे दूर गई हो
कल मेरे पास कोई और आयेगा
कल अपना भी दौर आयेगा।
 
तुमने मुझे परेशान किया तो क्या
मेरा थोड़ा अपमान किया तो क्या,
आज समुंदर की गहराई है
कल सुनामी का हिलोर आएगा
कल अपना भी दौर आएगा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें