व्यक्ति से बड़ा
हस्ताक्षर उसका
छोटा ही सही

अनन्यमना
अपने में अकेला
ये हस्ताक्षर

रचा बचेगा
हस्ताक्षर का क्या है
मिट जाएगा

चाहा छिपाना
न माना, हस्ताक्षर
बोल ही पड़ा

बच न सके
हस्ताक्षरों ने करी
भाव चुगली

चुरा के करे
चाँद के हस्ताक्षर
चोट्टी चाँदनी

सूरज उगा
पत्रों पे हस्ताक्षर
हुए अंकित

कविता चित्र
जो भी रचे हाथ
वो हस्ताक्षर

0 Comments

Leave a Comment